Tuesday, June 8, 2010

उतेजना प्रोफेशनल लाइफ में घातक

               जीवन में परिस्थितियां मनुष्‍य के अंदर द्वंद्व उत्‍पन्‍न करती रहती है कई बार मनुष्‍य दूसरों के कहने से उतेजित हो जाता है और कभी अपनी बातों के द्वारा दूसरों को  उतेजित कर देता है । प्रोफेशनल लाइफ में यह दोनों की तरह बाते घातक हो सकती है हमें हमेश इन बातों से बचना चाहिए । ऐसी परिस्थित में मनुष्‍य को स्‍वधर्म का से समस्‍याओं का सुलझाना चाहिए।        
             एक बार एक राजा भ्रमण पर निकला तो उन्‍होंने देखा की एक शेर गाय को भोजन बनाने के लिए आतुर है। गाय राजा की शरण में आ गयी, तो राजा ने शेर से कहां कि यह अब मेरे शरणागत है मैं तुम्‍हे इसे नहीं मारने दूंगा। इस पर शेर बोला हे राजन तुम यहां से चले जाओ ये गाय मेरा भोजन है और इसको मारना मेरा स्‍वधर्म है तुम इसके बीच में मत आओ। राजा बोला में क्षत्रिय राजा हूं मेरा स्‍वधर्म शरणागत की रक्षा करना है। अब तुम बताओं की जब किसी का स्‍वर्धम दूसरे के स्‍वर्धम से टकराता है तब क्‍या करना चाहिए ।इस बात पर राजा बोला की मूर्ख लोग आपस में लड़ने की चेष्‍टा करते है और बुद्धिमान लोग बीच को कोई रास्‍ता निकालते है। अब हमें कुछ इस तरह का रास्‍ता निकालना होगा। इस पर राजा बोला की तुम इस गाय को जाने दो और इसकी जगह तुम मुझे खा कर अपनी भूख शांत कर लो । शेर बोला हे राज शूरवीर हो तुम अतुल धन संपत्ति के स्‍वामी हो तुम क्‍यो इस तुच्‍छ प्राणी के लिए अपने जीवन को दांव पर लगा रहे हो । राजा ने बोला तुम्‍हार स्‍वधर्म है इस गाय को मार कर अपनी भूख का शांत करना और क्षत्रिय का धर्म है रक्षा करना यदि मै ने इस गाय की रक्षा ना की तो मेरे वंश का गौरव खत्‍म हो जाएगा और जिस वंश में राम ,लव कुश,हरीशचंद्र जैसे महापुरूष है वे मेरे इस जीवन को कायर कहेंगे तो ऐसे जीवन से मर जाना अच्‍छा है। राजा ने अपने शरीर को सिंह के समझ समर्पित कर दिया।        
              कहा भी जाता है की भय उससे भय खाता है जिसको भय से भय नहीं खाता । परीक्षा पूर्ण हुई और परीक्षार्थी उत्‍तीर्ण हुआ और परीक्षक हारा। स्‍वधर्म का पालन करने से बड़ी से बड़ी मुश्किलों से छुटकार मिल सकता है। 
मुझे यह बात इस लिए ध्‍यान में आयी क्‍योकि मेरे अजीज मित्र है एक दिन वे मुझे मिले और मुझे आपने एम्‍पलायर से परेशानी के बारे में मुझे बताने लगे । एम्‍पलायर हमेशा शक करता है उसको छोटी छोटी बातों को वे वजह बढ़ाचढ़ा कर करने की आदत है जिससे मेरी हमेशा उससे गिचड़ होती है। मुझे लगा मेरा मित्र वाकये परेशान है। मैं उसकी इस परेशानी को इस लिए भी अच्‍छे से समझ रहा था क्‍योकि अक्‍सर ऐसी परेशानी से हर कोई जुड़ा है जो अपने एम्‍पलायर से संतुष्‍ट नहीं होता है और इस तरह की मानसिक पीड़ा को झेलता रहा है। मुझे उसकी बात सुनकर एक बात याद आयी जो मैने कहीं पड़ी थी।

यदि मेरा मन इस बात को मान ले कि फलां व्‍यक्ति जो कह रहा है
वह सही है तो
सारी समस्‍याओं का सारे विवादों का वही अंत हो जाता है।


       इस बात से मुझे बहुत प्रेरणा मिलती है । मेरे मित्र को मैने यह बात बतायी और उससे कहां की इस का प्रयोग कर देखे।हालांकि वह काफी दिनों से मुझे मिला नहीं पर में उम्‍मीद करता हूं कि वह सलामत होगा।

8 comments:

  1. आईये जानें … सफ़लता का मूल मंत्र।

    आचार्य जी

    ReplyDelete
  2. हिन्दी ब्लॉगजगत के स्नेही परिवार में इस नये ब्लॉग का और आपका मैं ई-गुरु राजीव हार्दिक स्वागत करता हूँ.

    मेरी इच्छा है कि आपका यह ब्लॉग सफलता की नई-नई ऊँचाइयों को छुए. यह ब्लॉग प्रेरणादायी और लोकप्रिय बने.

    यदि कोई सहायता चाहिए तो खुलकर पूछें यहाँ सभी आपकी सहायता के लिए तैयार हैं.

    शुभकामनाएं !


    "टेक टब" - ( आओ सीखें ब्लॉग बनाना, सजाना और ब्लॉग से कमाना )

    ReplyDelete
  3. आपका लेख पढ़कर हम और अन्य ब्लॉगर्स बार-बार तारीफ़ करना चाहेंगे पर ये वर्ड वेरिफिकेशन (Word Verification) बीच में दीवार बन जाता है.
    आप यदि इसे कृपा करके हटा दें, तो हमारे लिए आपकी तारीफ़ करना आसान हो जायेगा.
    इसके लिए आप अपने ब्लॉग के डैशबोर्ड (dashboard) में जाएँ, फ़िर settings, फ़िर comments, फ़िर { Show word verification for comments? } नीचे से तीसरा प्रश्न है ,
    उसमें 'yes' पर tick है, उसे आप 'no' कर दें और नीचे का लाल बटन 'save settings' क्लिक कर दें. बस काम हो गया.
    आप भी न, एकदम्मे स्मार्ट हो.
    और भी खेल-तमाशे सीखें सिर्फ़ "टेक टब" (Tek Tub) पर.
    यदि फ़िर भी कोई समस्या हो तो यह लेख देखें -


    वर्ड वेरिफिकेशन क्या है और कैसे हटायें ?

    ReplyDelete
  4. kahaanii ke alaawaa kuchh bhi spasht nahin huaa. shaayad mujhme itnaa dhairy nahin ki main ise dubaaraa padhun.

    ReplyDelete
  5. हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
    कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देनें का कष्ट करें

    ReplyDelete
  6. " बाज़ार के बिस्तर पर स्खलित ज्ञान कभी क्रांति का जनक नहीं हो सकता "

    हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में राज-समाज और जन की आवाज "जनोक्ति.कॉम "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . अपने राजनैतिक , सामाजिक , आर्थिक , सांस्कृतिक और मीडिया से जुडे आलेख , कविता , कहानियां , व्यंग आदि जनोक्ति पर पोस्ट करने के लिए नीचे दिए गये लिंक पर जाकर रजिस्टर करें . http://www.janokti.com/wp-login.php?action=register,
    जनोक्ति.कॉम www.janokti.com एक ऐसा हिंदी वेब पोर्टल है जो राज और समाज से जुडे विषयों पर जनपक्ष को पाठकों के सामने लाता है . हमारा प्रयास रोजाना 400 नये लोगों तक पहुँच रहा है . रोजाना नये-पुराने पाठकों की संख्या डेढ़ से दो हजार के बीच रहती है . 10 हजार के आस-पास पन्ने पढ़े जाते हैं . आप भी अपने कलम को अपना हथियार बनाइए और शामिल हो जाइए जनोक्ति परिवार में !

    ReplyDelete